बच्चों की कहानी नाइजेल एक नुक्ताचीन रुमाल

बच्चों की कहानी नाइजेल एक नुक्ताचीन रुमाल

 

बच्चों की लघु कहानियां - एक कहानी जिसका नाम है नाइजेल

लघु कहानियां। यह सोने के समय की लघु कहानी नाइजेल के बारे में है और हाँ, वह एक कागज़ का रुमाल है। क्या यह चिड़िया है? क्या यह मधु-मक्खी है? नहीं, यह नाइजेल था जो अपने आप को चिड़िया या मक्खी में बदल रहा था क्योंकि- वह रुमाल है- वह अपने आप को जिस आकार में चाहे उस में मोड़ सकता है। और नाइजेल के लिए हर चीज बिल्कुल सही होनी चाहिए थी, एकदम सीधी रेखाएँ और पैनी सिलवटें, जिससे वह बन जाता था चिड़चिड़े रूप से... नुक्ताचीन।

 

 

बच्चों की कहानी BoodleBobs नाइजेल एक नुक्ताचीन रुमाल बच्चों की कहानी पुस्तक का आवरण
बच्चों की कहानी, नाइजेल एक नुक्ताचीन रुमाल,  बच्चों की कहानी पुस्तक का पृष्ठ 1

 

 

 

बच्चों की लघु कहानियां - नाइजेल, एक नुक्ताचीन रुमाल 

यह कहानी नाइजेल के बारे में है। और हाँ, वह एक कागज़ का रुमाल है।

क्या यह चिड़िया है? क्या यह मधु-मक्खी है? नहीं, यह नाइजेल था जो अपने

आप को चिड़िया या मक्खी में बदल रहा था क्योंकि - वह रुमाल है- वह अपने

आप को जिस आकार में चाहे उस में मोड़ सकता है।

और नाइजेल के लिए हर चीज बिल्कुल सही होनी चाहिए थी, एकदम सीधी रेखाएँ

और पैनी सिलवटें, जिससे वह बन जाता था चिड़चिड़े रूप से...

 

नुक्ताचीन।

"ऑरिगेमी (जिसे कहते हैं ऑ रि गे मी) एक कला रूप है," उसने गर्व से कहा।

"आकार और नाप की कोई समस्या नहीं" वह पिरामिड बनते हुए बोला, फिर

अपना मन बदल कर एक लैंप शेड बन गया।

पर यह एक गलती थी क्योंकि उसी समय आ गया मैलकम जो लैंप शेड से बहुत

आकर्षित था और नाइजेल (जो अभी लैंपशेड था) पतंगों से बहुत डरता था।

वह जानता था कि पतंगे स्वेटर, मोज़े और बढ़िया जम्पर खा जाते थे और...

...रुमाल भी!

बच्चों की कहानी, नाइजेल एक नुक्ताचीन रुमाल, बच्चों की कहानी पुस्तक का पृष्ठ 2

 

 

नाइजेल ने तो ऐसा ही सोचा और अपने दराज़ की सुरक्षा में

भागकर छिप गया।

मैलकम ने लूसी से पूछा "इसे क्या हुआ? मैं तो बस उसका

दोस्त बनना चाहता हूँ।"

"वह सोचता है तुम उसे खा जाओगे," लूसी आह भरते हुए बोली।

"वह नहीं जानता कि तुम कागज़ के बने हो।"

"मैं कागज़ नहीं खाता!" मैलकम ने कहा, "और वैसे भी, मैं नाइजेल

को नहीं खाऊँगा, यह दोस्त बनाने का अच्छा तरीका नहीं है।"

 

"खैर, किसी को यह समझाना चाहिए," लूसी ने कहा। "जाकर एल्सी से

मदद मांगो।"

तो मैलकम फड़कता हुआ खिड़की से बाहर सेब के पेड़ की तरफ चला

गया जहाँ एल्सी एक डाल पर झूल रही थी।

"तुम सेब के पेड़ में क्यों रहती हो?" उसने पूछा। "पर क्यों नहीं!" वह

बोली और झूलती रही।

"यह सबकी पसंद नहीं होती पर मुझे झूलना अच्छा लगता है तो इससे

बढ़िया जगह और क्या होगी।"

"क्या तुम मेरे साथ शामिल होने आए हो?"

बच्चों की कहानी, नाइजेल एक नुक्ताचीन रुमाल, बच्चों की कहानी पुस्तक का पृष्ठ 3

 

 

मैलकम शामिल होने नहीं आया था। पर उसने

नाइजेल के बारे में बताया और एल्सी बस झूलती

ही रही। कुछ जाने बिना ही, मैलकम रसोईघर में

वापस चला गया।

"तुम कागज़ के बने हो और मैं कागज़ नहीं

खाता!!" वह दराज़ में गुस्से से चिल्लाया।

पर नाइजेल नहीं हिला।

 

"वह सही है," एल्सी खिड़की के अंदर सरकती हुई

बोली।

और अपनी लंबी नीली संडू से कुशलता से दराज़

खोलते हुए उसने नाइजेल को उठाया और उसे सेब

के पेड़ पर वापस ले गई।

"मुझे एक साथी चाहिए," वह बोली, "क्या तुम

खुद को एक हाथी बना सकते हो?"

 

बच्चों की कहानी, नाइजेल एक नुक्ताचीन रुमाल, बच्चों की कहानी पुस्तक का पृष्ठ 4

 

 

"आसान है," नाइजेल बोला और उसने वैसा ही किया, उसने

अपने आप को हाथी बना दिया।

"क्या तुम मुझे खाने आए हो?" मैलकम के पहुँचते ही

एल्सी ने उससे पूछा। "या तुम मुझे खाने आए हो?"

नाइजेल ने दोहराया।

"नहीं, मैं तुम दोनों को खाने नहीं आया हूँ," मैलकम बोला,

"सब जानते हैं कि कोई हाथी को नहीं खा सकता...

...और दो को तो बिल्कुल नहीं।"

"लो, यह हो गया तुम्हारा

समाधान, हाथी ही बने रहो,"

एल्सी ने राय दी।

तो नाइजेल जल्दी -जल्दी चलता

हुआ सुरक्षित अपने नए दोस्त

मैलकम के साथ रसोईघर में

वापस चला गया।

"मैं अपने आप को किसी भी

चीज में बदल सकता हूँ," वह

बातचीत करने लगा, "तुम

बस नाम लो।" "एक स्वेटर?"

मैलकम ने धीरे से सुझाया।

"एकदम आसान!" नाइजेल ने जवाब दिया और एक सुंदर

सा नीला स्वेटर बन गया।

अब यह तो नाइजेल के लिए समझदारी की बात नहीं थी।

 

बच्चों की कहानी, नाइजेल एक नुक्ताचीन रुमाल, बच्चों की कहानी पुस्तक का पृष्ठ 5

 

 

"क्या तुम बिच्छू और मेंढक की कहानी के बारे में जानते हो?" मैलकम ने पास

आते हुए पूछा। "नहीं, क्या उसका अंत अच्छा था?"

"नहीं," मैलकम बोला। "ऐसा हुआ, कि बिच्छू को नदी पार करनी थी, और लंबी

कहानी को छोटा करते हुए कहें तो मेंढक आखिर मान गया, मगर वह डरता था

कि बिच्छू उसे डंक मार देगा।

"और क्या उसने ऐसा किया? क्या बिच्छू ने मेंढक को डंक मारा?"

 

"अरे हाँ... बहुत अच्छी तरह से।"

"मगर क्यों?"

"क्योंकि यह तो उसका स्वभाव था," एल्सी जाते-जाते बोली, "और तुम्हारे लिए

दुर्भाग्य से यह मैलकम का स्वभाव है कि वह स्वेटर को खा जाएगा..."

"...कागज के स्वेटर भी"

"काश! मैं जैसा था वैसा ही रहा होता," नाइजेल उदास होकर बोला, जब वह

मैलकम का भोजन बन गया। "उसने एक हाथी को नहीं खाया होता।"

बेचारा नाइजेल।

यह तो अच्छा है कि उसका एक जुड़वां भाई है! 

बच्चों की लघु कहानियां - नाइजेल, एक नुक्ताचीन रुमाल, जो केम्प द्वारा 

 

-->